मिटटी के घर

अरसा हुआ मिटटी के घर बनाये ..
छोटे छोटे दरवाज़ों और खिड़कियों में झांकते थे ,
की शायद किसी ने वहां घर बनाया होगा ,
इस घरोंदे में कोई तो नन्हा परिंदा आया होगा
सुकून सा मिलता था एक जब हाथ मिटटी से रंग जाते थे ,
जैसे हम खुद से खुद ही मिल आते थे…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s