खुद से लड़ाई / The fight with your own self

खुद से लड़ना इतना आसान नहीं,
की पीडियों से ये आदतें चली आ रहीं हैं.
ईमारत की नींव को खोद कर फिर बनाना
काफी दर्द भरा एहसास हो जाता है ..
शरीर भी अपनी मनमानी कितनी चलाता है..
दिमाग भी कुछकम नहीं क्योंकि दर्द उसको भी कहाँ कबूल हो पाता है..

सोचो तो लगता है आसान है मंज़िल…
पर हर कदम पर लड़ना है कितना मुश्किल.
जो अब तक न किया वह उम्रों के बाद करने जा रहे हैं..
जाने खुद को या दुनिया को क्या दिखा रहे हैं

बस एक ज़िद्द है जो कुछ अँधेरी राहों का उजाला हो जैसे.
ज़िद्द की तलवार लिए हमने खुद पर ही कर दी चढाई,
अब देखते हैं कौन जीतेगा ये अजीब सी लड़ाई…

Its not easy to fight your own heart, your own body or your own mind,

Its not easy to leave the beliefs you have grown up on behind,

Its not easy to bear pain even if it is for your own good,

It is not easy to swallow a bitter pill even though you know you should.

A stubborn will is all that you have to take on this strange fight,

To resist the comfort and to do what is painful but also right.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s