अकड़ का मारा – The arrogant oaf!

बचपन में उसको बोला तू लड़का है कमाल का,
तेरे आने से मिला हमको जवाब हरसवाल का ,
तुझ पर कोई ज़ोर नहीं, तू चिराग है,
हरतरह से भुजा ले तेरे अंदर जो आग है.
वह निकला पहन कर मर्द वाला चोला ,
उसने न हरकतों को, न बातों को किस्सी तराज़ू में तोला .
इतना यकीन था उसको की वह लड़कियों के लिए वरदान है,
की लडकियां उसके जादू से अनजान है,
पर एक के बाद एक हर लड़की ने उसको आईना दिखाया,
क्या हुआ उसके साथ, उसको बिलकुल समझ नहीं आया,
काश उसको बचपन में किसी ने लड़कियों के बारे में समझाया होता.
थोड़ा समझदारी और प्यार का पाठ पढ़ाया होता.
तो नहीं फिरता वह यूं अपना गुस्सा लिए दर बदर.
अगर कर लेता थोड़ा लड़कियों की इज़्ज़त और कदर.
अब भी वह अकड़ लिए मुँह फुलाए बैठा हुआ है,
न जाने कौनसी अकड़ में ऐंठा हुआ है.
कोई उसको बताये प्यार से चलती है गाडी. अब तो होश में आजा ऐ अनाडी.

When he was born,
People danced with joy,
They danced with abandon,
Hurrah! It is a boy!
He was told he was their brightest star,
He was told that he would go very far.
He felt he was a blessing to the girls of the land,
He felt he would get someone who would understand.
The girls who came into his life wanted equality in everything,
But he thought he was the only ruler, the ultimate king.
He did not understand what women need,
They need a man who can actually listen and pay heed,
But our little prince charming has yet not figured it out,
He still feels he knows everything without any doubt!
Yet he is puzzled whats driving the girls away,
Someone knock some reason into him I earnestly pray!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s