ज़िन्दगी

ज़िन्दगी की खूबसूरती तो देखिये…
न मिली मंज़िल पर हम लापता भी न हो पाए,
न मिले हमसफ़र पर मिल गए दोस्ती के ठन्डे साये,
मुक़मल न हुई मोहब्बत बेशक पर प्यार बेगानों से मिला बेशुमार…
इज़हार हो नहीं पाया …पर हमने जीने से कर लिया इक़रार
– Shailaza

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s